Big News HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

पेयजल समस्या को लेकर करीब तीन घंटे महिलाओंं ने रखा गोहाना-सफीदों मार्ग जाम

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – गांव हाट में डेढ़ महीने से पानी की सप्लाई नहीं आने के कारण गांव की महिलाओं ने वीरवार को सफीदों-गोहाना मार्ग को करीब तीन घंटे तक जाम रखा। इस दौरान महिला ने प्रशासन के खिलाफ रोष प्रकट भी किया। वाटर सप्लाई चालू नहीं होने के कारण महिलाओं को पेयजल  कई-कई किलोमीटर तक भटकना पड़ता है। क्योंकि गांव का पानी नमकीन(खारा) होने के कारण समर्सिबल का पानी भी पीने लायक नहीं है। ऐसे में परेशान होकर गांव की महिलाओं व कुछ पुुरुषों ने मिलकर सुबह दस बजे ही गोहाना रोड को जाम कर दिया था। लेकिन जाम लगने के डेढ़ घंटे तक भी जब कोई भी प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा तो, महिला सड़क पर ही धरना देकर बैठ गई। इस दौरान करीब दो घंटा बाद जब जन स्वास्थ्य विभाग के एसडीसी अमित कुमार व जेई जगबीर सिंह मौके पर पहुंचे तो महिलाओं ने उनके पैरों में मटका तोड़ प्रदर्शन किया।

सड़क जाम होने से वाहन चालकों को परेशान का सामने करना पड़ा। महिलाओं उनकी मांग थी कि जब तक उनकी वाटर सप्लाई को ठीक करके चालू नहीं किया जाता, तब-तक वह सड़क से नहीं हटेंगे। जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व पुलिस ने समझाने का काफी प्रयास किया और एक-दो दिन में वाटर सप्लाई चालू करवाने का भी आश्वासन दिया, लेकिन महिलाओं नहीं मानी और उन्होंने जाम खोलने से मना कर दिया। तभी जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने मौके पर जेसीबी मंगवा कर वाटर सप्लाई की जाइंट ठीक करने की प्रक्रिया शुरू की। जिसके बाद महिलाओं से जाम खोला। महिलाओं के साथ गांव हाट के सरपंच बिजेंद्र सिंघल, राजेश, रविंदर,जयपाल मलिक आदि का कहना था कि वह इस समस्याओं को लेकर कई बार जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से मिल चुके थे और साथ सीएम विंडों पर भी शिकायत लग चुके थे। लेकिन अधिकारियों ने समस्या की ओर कोई ध्यान नहीं दिया।

गांव हाट के तीर्थ के पास वाली सप्लाई चालू ना होने के कारण आधा गांव पेयजल की समस्या से जूझ रहा है। क्योंकि घरों में पानी नहीं पहुंच पा रहा है। डेढ़ माह से वाटर सप्लाई बिल्कुल ही बंद पड़ी है। अभी नई वाटर सप्लाई दबाई गई थी। जिसके जाइंट अच्छे से नहीं लगाए गए, सप्लाई चालू होते ही जाइंट हट जाती है। ऐसे में पेयजल सप्लाई पिछले डेढ़ महीने से बंद पड़ी है। जिससे महिलाएं गांव के लोग पशुओं को पानी पिलाने में कपड़े-धोने में भी परेशानी उठानी पड़ रही है। किसी परेशानी के चलते उन्होंने जाम लगाने पर मजबूर होना पड़ा।

551
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.