अन्तर्राष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर किया गया शाक्षरता शिविर का आयोजन
Shravasti Uttar Pradesh VS NEWS INDIA

अन्तर्राष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर किया गया शाक्षरता शिविर का आयोजन

VS News India | Vinay Balmiki | Shravasti : – श्रावस्ती । अन्तर्राष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस तथा नशामुक्ति व अन्य कानूनी जानकारी ‘‘ आदि विषयों पर तहसील सभागार भिनगा, जनपद श्रावस्ती में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ सचिव , जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्रीमती अपर्णा देव, श्रावस्ती के द्वारा किया गया। उक्त कार्यक्रम में सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने उपस्थित जनसामान्य को सम्बोन्धित करते हुए कहा कि 31 मई को हर साल दुनिया भर मे विश्व तम्बाकू निषेध दिवस मनाया जाता है, इसका उद्येश्य दुनिया भर मे तम्बाकू की खपत के सभी रूपो से 24 घंटे की रोक थाम को प्रोत्साहित करना है। तम्बाकू के व्यवहार से होने वाले बीमारीयों पर विशेष रूप से प्रकाश डालते हुए इस आदत को छोड़ने की अपील लोगो से की, और कहा कि स्वस्थ्य रहने के लिए स्वस्थ्य मस्तिष्क का होना अति आवश्यक है। यह तभी संभव है जब हम लोग तम्बाकू सेवन करने से परहेज करें। उन्होने उपस्थित लोगो को तम्बाकू से होने वाले नुकसान की जानकारी दी और बताया कि तम्बाकू उत्पाद से कैंसर मुंह और गले के रोग की संभावना अधिक होती है, लोग तेजी से कैसर की चपेट मे आ रहे है। उन्होने तम्बाकू उत्पाद को छोडने को लेकर लोगो को जागरूक होने के साथ ही स्वयं पहल करने की जरूरत है। श्रीमती अपर्णा देव सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, श्रावस्ती ने बताया कि शिविर का मुख्य उद्येश्य युवाओ, विद्यार्थियो, एवं आमजन मे बढती तंम्बाकू एवं धूम्रपान सेवन की प्रवृत्ति तथा नशे की हालत को रोकना है। उन्होने गुटखा, तम्बाकू सेवन से शरीर को होने वाले नुकसान की जानकारी देते हुए इससे दूर रहने का संकल्प दिलाया। उक्त कार्यक्रम में मीडियेटर अधिवक्ता अशोक कुमार सिंह ने तम्बाकू खाने से होने वाली कंैसर जैसी बीमारियो के बारे में जानकारी दी और मौजूद युवाओ और हर वर्ग के लोगो को तंम्बाकू खाने के दुष्परिणाम विषय पर चर्चा की और कहा कि इस दिन का उद्येश्य तम्बाकू के व्यापक प्रसार ओैर नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभावो पर ध्यान आकर्षित करना है, जो वर्तमान मे दुनिया भर में लगभग 6 मिलियन मौतो का कारण बनते है,जिनमे 6 लाख लोग शामिल है। अधिवक्ता विष्णु दत्त अस्थाना ने बताते हुए कहा कि तम्बाकू एक धीमे जहर की तरह होता है, जो उपयोग करने वाले व्यक्ति को धीरे-धीरे मौत के मुंह की ओर ढकेल देता है फिर भी लोग जाने-अनजाने मे तम्बाकू उत्पादो का सेवन करते जा रहे है। धीरे-धीरे यह शौक लत मे बदल जाता है, और तब नशा आनंद प्राप्ति के लिये नही बल्कि न चाहते हुए भी लोग करते है तथा उसके दुष्परिणाम को भेागते है। उक्त कार्यक्रम में ओम प्रकाश आर्या समाज सेवी ने कहा कि तम्बाकू उत्पादो का सेवन व्यक्ति अलग- अलग रूप मे करता है, जैसे- सिगरेट, बीडी, जर्दा, गुटखा , खैनी ,हुक्का , चिलम आदि रूप मे करता है ,यही धूम्रपान आदमी को धीरे-धीरे मौत के मंुह मे ले जा रहा है। उन्होने लोगो को इससे दूर रहने की सलाह दी, तम्बाकू धूम्रपान के ऊपर कुछ कविताएं भी कही, और लोगो का मन मोह लिया।

parveen sound safidon
1314
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.