HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

जग-मग योजना के तहत बिजली निगम द्वारा तार हटाकर लगाई जा रही केवल का वीरवार को गांव सिल्लाखेड़ी के ग्रामीणों ने बहिष्कार किया।

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – जग-मग योजना के तहत बिजली निगम द्वारा तार हटाकर लगाई जा रही केवल का वीरवार को गांव सिल्लाखेड़ी के ग्रामीणों ने बहिष्कार किया। ग्रामीणों ने एक दिन पहले की शुरू हुए कार्य को बंद करवा दिया। इस दौरान मौके पर एकत्रित हुए करीब 80 से 100 किसान का कहना था कि जब-तक सरकार तीन कानूनों को वापिस नहीं लेंगी, वे गांव सिल्लाखेड़ी में सरकार की हर योजना का बहिष्कार करेंगे। इस दौरान किसानों ने सरकार के प्रति रोष प्रकट किया। बिजली निगम के अधिकारियों को कार्य रुकने की सूचना मिली तो एरिया सिटी एसडीओ विनीत कुमार तुरंत मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने का काफी प्रयास किया, लेकिन ग्रामीणों ने अधिकारियों की एक ना सुनी और काम को बंद रखने की ही सलाह दी। ग्रामीणों के हंगामे को देखते हुए बिजली निगम के कर्मचारियों ने भी काम को बंद कर  वापिस लौटने में भलाई समझी। इस मौके पर गांव के किसान अनिल कुमार, सुरेद्र लठवाल, विनोद कटारिया, काकू लठवाल, सीता पंडित आदि ने कहा कि पिछले 90 दिन से किसान हर बॉर्डर बैठे हुए है और सैकड़ों किसानों की मौतें हो चुकी हैं, लेकिन यह सत्ताधारी सरकार किसानों के लिए गूंगी-बहरी बनी बैठी है। ऐसे में वह भी सरकार को सबक सिखाने के लिए उनकी हर गतिविधि में बांदा बनेंगे। ग्रामीणों ने कहा है कि जब-तक सरकार तीन काले कानूनों को वापस नहीं लेते है उनके गांव में बिजली की लाइन नहीं लगने देंगे और इसके साथ-साथ हर सरकारी योजना का विरोध करेंगे।

साथ ही ग्रामीणों ने कहना था कि बिजली निगम के नाम पर भी सरकार उपभोक्ताओं को लूटने का काम कर रही है। उपभोक्ता को ब्याज पर ब्याज लगाकर बिजली बील भेज रही है। कोरोना काल के बाद एक बार भी गांव सिल्लाखेड़ी में बिजली बिल नहीं भेजा गया है। पूरा एक साल होने को है। लॉक डाउन बंद हो चुका है। फिर भी निगम द्वारा गांव सिल्लाखेड़ी बिजली बिल नहीं बांटे गए हैं। हर उपभोक्ता को कहीं ना कहीं डर है कि उनका मोटी रकम में बिजली का बिल ना आ जाए?  ऐसे में एक साथ में वह उसे कैसे चुका पाएंगे। बिजली निगम के कर्मचारी बिल ना बनाने की
बजाये अन्य कार्यों में लगे हुए हैं।

बिजली निगम के एरिया सिटी एसडीओ विनीत कुमार ने कहा है कि मामले की सूचना मिलते ही वह गांव सिल्लाखेड़ी पहुंचे थे। ग्रामीणों को काफी समझाने का प्रयास भी किया, लेकिन ग्रामीण मानने को तैयार नहीं है। खंभे निगम द्वारा एक माह पहले ही पूरे गांव में लगवा दिए थे। लेकिन बिजली लाइन लगवाने के कार्य को दूसरा दिन ही हुआ था। वीरवार को गांव के किसानों ने तीन कानूनों के विरोध में लाइन लगाने की प्रक्रिया को बीच में ही रुकवा दिया है। उन्होंने मामला उच्च अधिकारियों के संज्ञान में डाल दिया है। निगम ने जग-मग योजना के तहत मार्च के अंत तक गांव में तार हटाकर बिजली की केबल लगाने का लक्ष्य है। फिलहाल काम को रोक दिया गया। ग्रामीणों को समझाने का प्रयास जारी है और उच्च अधिकारियों के आदेश अनुसार आगामी
कार्रवाई को अमल में लाया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि अभी सिल्लाखेड़ी के बिल नहीं बने है, मार्च में ही सिल्लाखेड़ी के बिजली बिल तैयार करके वितरित करवाएं जाऐंगे।

583
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *