पड़ोसी के 6 वर्षीय बच्चे की सोच व मुस्तैदी के कारण जानी नुकसान होने से बचा
HARYANA SAFIDON Sansani VS NEWS INDIA

पड़ोसी के 6 वर्षीय बच्चे की सोच व मुस्तैदी के कारण जानी नुकसान होने से बचा

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – उपमंडल के गांव मलिकपुर में एक पड़ोसी के 6 वर्षीय लड़के हरिश की सोच और मुस्तैदी के कारण जानी नुकसान होने से बचा है।  हुआ यू की एक मकान में गत रात्रि बिजली की तार मेंं शार्ट-सर्किट हो से आग लग गई। इस दौरान मकान मालिक मनोहर लाल एक प्राईवेट कंपनी में अपनी रात्रि ड्यूटी पर गया हुआ था। लेकिन उसकी पत्नी सुनीता अपने दो बच्चों के साथ मकान में ही सो रही थी। बिजली के तार की चिंगारी कपड़ों पर  जा गिरी और मकान में एकदम से आग की लपटे अधिक हो गई। आग की भनक मकान मालकिन सुनीता को नहीं गली, क्योंकि वह गहरी नींद सो रही थी। इस दौरान जब पड़ोसी का 6 वर्षीय लड़का हरिश रात्रि करीब 12 बजे शौच करने के लिए अपने घर से बाहर निकला तो उसने मकान से धूहा निकला दिखा, जिसके बाद हरिश ने तुरंत सो रहे अपने माता-पिता को उठाया और आग लगने की सूचना दी। तभी उसके माता-पिता ने मकान मालकिन सुनीता और उसके दोनों बच्चों को मकान सुता उठाकर बाहर निकाला।  आग की सूचना व शोर सुनकर आए करीब 30 ग्रामीणों ने मिलकर एक घंटे की कड़ी मशक्कद के बाद आग पर काबू पाया। आनन-फानन में परिजनों व ग्रामीणों द्वारा दमकल विभाग में भ्भी सूचना देना ध्यान नहीं रहा।  इस आगजनी से मकान में रखा डबल बेड, 32 इंची एलईडी, फ्रिज, सिलाई मशीन, मेज-कुर्सी एवं सभ्भी कपड़ों के साथ बिजली फिटिंग व छत का पंखा जल गया।  मकान मालिक मनोहर लाल ने बताया कि इस घटना से उसका करीब डेढ़ लाख रुपए का नुकसान हुआ है। उसकी पत्नी सुनीता भीतर वाले कमरे में  चारपाई पर सो रहे थी। अगर हरिश समय से पहले सूचना नहीं देखता तो आग ओर अधिक होने से मकान की छत भी गिर सकती थी।
क्योंकि मकान की छत लकडिय़ों की कडियों से बनी हुई है। ऐसे में छोटे बच्चे ने बड़ा हादसा होने से बचाया है। वहीं गांव के सरपंच मस्तान सिंह ने भी मामले की सूचना एसडीएम मनदीप कुमार को दी है और गरीब परिवार होने के नाते उन्हें मुआवजे दिलवाने की  गुहार लगाई है। सरपंच ने भी अपनी तरफ से परिवार को चारपाई व अन्य जरूरी सामान के लिए पंद्रह 15 हजार रुपए की सहायता देने की बात कही है। 

570
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *