Crime HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

सफीदों पुलिस ने बैंक खाते में धोखाधड़ी के 2 अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं

VS News India | Sanjay Kumar | Safidon : – सफीदों पुलिस ने बैंक खाते में धोखाधड़ी के 2 अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं। सफीदों पुलिस को दी शिकायत में गांव मुआना निवासी ईश्वर सिंह ने कहा कि 28 जून को मैने किसी व्यक्ति के खाते में 60 हजार रूपए भेजने थे। मैने अपने लड़के को गुगल-पे करने के लिए बोला तो मेरे लड़के ने 60 हजार रूपए गुगल-पे कर दिए लेकिन किसी कारणवंश गुगल-पे के द्वारा व्यक्ति के खाते में रूपए नहीं पहुंचे तो इसी दौरान मैंने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया सफीदों में संपर्क किया तो बैंक वालों ने समस्या का कोई समाधान नहीं निकाला। इसी बीच मेरे लड़के को सीएससी सैंटर पर सागर नाम का लड़का मिला और उससे गुगल-पे से रूपए कटने का जिक्र किया तो सागर नामक लड़के ने मेरे लड़के को कहा कि 9002327947 नम्ंबर पर फोन करो और 10 से 15 मिनट में तुम्हारे रूपए वापिस आ जाएंगे। मेरा लड़का उसकी बातों में आ गया और बताए गए नम्बर पर फोन किया। फोन उठाने वाले ने मेरे लड़के को ऐप डाउनलोड करने को कहा। मेरे लडके ने ऐप डाउनलोड किया और मेरा डेबिट कार्ड का नम्बर पुछा।

मेरे लड़के द्वारा डेबिट कार्ड का नंबर बताने के बाद 1 जुलाई को कई बार में मेरे खाते से 27 हजार रूपए कट गए। वहीं दूसरी शिकायत में गांव डिडवाड़ा निवासी विकास कुमार ने कहा कि मेरे भाई के दोस्त राधा निवासी डिडवाड़ा के पास एक प्रवासी कई साल से काम पर आया-जाया करता था और वह प्रवासी मेरे को जानता था। उसने 3 जुलाई को मेरे भाई राजेंद्र के पास फोन करके कहा कि किसी व्यक्ति ने मेरे रूपए देने है और चैक लगता नहीं है। आप मेरे को अपना गुगल-पे का नम्ंबर दे दो। इस पर मेरे भाई ने कहा कि मेरा कोई गुगल पे नम्बर नहीं है तो उसने कहा कि किसी और का नंबर दे दो। मेरे भाई ने मेरा गुगल पे नंबर दे दिया। उसके बाद उस प्रवासी ने मेरे गुगल पे नंबर पर 5 रूपए भिजवाए और मेरे से पुछा कि 5 रूपए आ गए है क्या। उसके बाद उसने 10 हजार रूपए डाल दिए जाने की बात कही तो मैंने कहा कि मेरे पास रकम नहीं आई है। जबकि वह कहता रहा कि उसके खाते से 10 हजार रूपए कट चुके हैं। मैंने अपना खाता चैक किया तो मेरे खाते में पैसे आने तो दूर 3 जुलाई को 10 हजार व 1499 रूपए कटे हुए मिले। पुलिस ने दोनों ही मामलों में धोखाधड़ी में दो अलग-अलग मामले दर्ज कर लिए हैं।

164
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.