Big News HARYANA JIND VS NEWS INDIA

कथित समाजसेविका रेखा धीमान की गिरफ्तारी को लेकर सड़कों पर उत्तरे आधा दर्जन से अधिक समाजसेवी संगठन

VS News India | Jind : – जींद। पीपलथा की नाबालिग दलित बच्ची को वेश्यावृति के दलदल में धकेलने की मुख्य आरोपी रेखा धीमान व अन्य आरोपियों के खिलाफ जींद पुलिस द्वारा कार्यवाही न होने से नाराज आधा दर्जन से अधिक सामाजिक संगठनों ने भीम आर्मी के बैनर तले शहर में जमकर प्रदर्शन किया। मंगलवार को भीम आर्मी, राष्ट्रीय दलित फाउंडेशन, संत कबीर समिति, पुरुष बचाओ समिति व पीपलथा के ग्रामीणों ने जिला स्तर पर जोरदार प्रदर्शन कर तथाकथित समाजसेविका रेखा धीमान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान संस्थाओं ने जींद प्रशासन, जींद पुलिस व जांच अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। संस्थाओं में मामले में पुलिस पर मिलीभगत का आरोप भी लगाया। इससे पहले मंगलवार सुबह भीम आर्मी, राष्ट्रीय दलित फाउंडेशन, संत कबीर समिति, पुरुष बचाओ समिति व पीपलथा के ग्रामीण नेहरु पार्क, रानी तालाब के पास एकत्र हुए और ये शहर में प्रदर्शन करते हुए हुए लघु सचिवालय जींद पहुुंचे।

मामले में संस्थाओं ने डीईजी ओपी नरवाल को ज्ञापन सौंपते हुए मामले में दो दिन में गिरफ्तारी न होने की दशा में महापंचायत की चेतावनी दी। साथ ही उन्होंने मामले को मुख्यमंत्री मनोहर लाल के सामने उठाने की मांग की। उसके बाद मामले को बढ़ता देख पुलिस अधिकारियों ने मामले में जांच अधिकारी बदलने के साथ-साथ मामले में गिरफ्तारी व उचित कार्यवाही के लिए सात दिन का समय मांगा है। अब तक मामले में ठोस कार्यवाही न करने वाली डीएसपी पुष्पा खत्री को हटा कर मामले की जांच सफीदो के एएसपी अजीत सिंह शेखावत को सौंप दी गई है। मंगलवार को प्रदर्शन करने वालों में जोगेन्द्र सक्सेना, सरदार सतपाल सिंह चौहान, पीपलथा के सरपंच प्रतिनिधि, धमेन्द्र दहिया, मंजू हिसार, रुबिना, संदीप बराह, राजेश बुम्बक, भतेरी, सुमन, पास्टर विनोद भाटिया सहित विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारीगण व सदस्यगण मौजूद रहे।

क्या है मामला
पीपलथा गांव निवासी और खुद को समाजसेविका बताने वाली रेखा धीमान, उसके पिता जिले सिंह और भाई सैंडी उर्फ सुंदर के खिलाफ पिछले दिनों पोक्सो एक्ट तथा एससी-एसटी समेत अन्य धाराओं के तहत जींद में केस किया गया है। मामले में एक नाबालिग युवती ने रेखा धीमान व उसके भाई व पिता पर गंभीर आरोप लगाए थे। मामले में गिरफ्तारी न होने से नाराज ग्रामीणों व भीम आर्मी ने मंगलवार को प्रदर्शन किया। इस मामले में 16 वर्षीय नाबालिगा ने महिला थाना पुलिस को दी शिकायत में बताया कि गांव की ही रेखा धीमान, जो कि खुद को समाजसेविका बताती थी। फरवरी माह में उसने अपने घर बुलाया। जहां पर वह, उसका भाई सैंडी उर्फ सुंदर और उसका पिता जिले सिंह था। इस दौरान सैंडी उर्फ सुंदर ने उसके साथ छेड़छाड़ की। जब उसने विरोध किया तो तीनों ने उसके साथ मारपीट कर जान से मारने की धमकी देते हुए जातिसूचक गालियां दी। शिकायतकर्ता ने युवती रेखा धीमान पर आरोप लगाया था कि उसने कहा था कि उसकी प्रशासन और नेताओं के साथ अच्छी बनती है। वह लड़कों के साथ शारीरिक संबंध कायम कर ले। इसके बदले रुपए और शूट मिलेंगे। उसके मना करने पर रेखा धीमान ने जातिसूचक गालियां दी थी।

महिला बाल विकास विभाग ने बनाया था आइकन
तथाकथित समाजसेविका रेखा धीमान द्वारा फाऊंडेशन शुरू कर समाजसेवा करने का प्रचार किया था। उसके बाद महिला एवं बाल विकास विभाग ने रेखा धीमान को बेटियों के लिए आइकन बना दिया। उसके बाद से ही रेखा विभिन्न मंचों पर पुलिस व जिला प्रशासन के मंचों पर दिखाई देने लगी थी

822
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *