HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

बच्चों को संस्कारवान बनाकर सत्संग कथा के लिए प्रेरित करें: गौरव रोहिल्ला

VS News India | Sanjay Kumar | Safidon : – कस्बे के नागक्षेत्र मंदिर हाल में रविवार को 7 दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का शुभारंभ हुआ। जिसमें आगामी 13 नवंबर तक कथाव्यास श्रीपाल दास जी श्रृद्धालुओं को श्रीमद्भागवत का रसपान करवाएंगे। साथ ही महामंडलेश्वर स्वामी विकासदास महाराज द्वारा सानिध्य प्राप्त होगा। कथा का शुभारंभ रविवार को महिलाओं ने शहर में कलश यात्रा निकालकर किया। इस दौरान यात्रा में वार्ड नंबर 13 के निवर्तमान पार्षद एवं चेयरमैन पद के दावेदार गौरव रोहिल्ला बतौर मुख्यातिथि उपस्थित रहें। कलश यात्रा का समापन कथा स्थल चलकर पर कथा स्थल पर ही हुआ।

मुख्यातिथि गौरव रोहिल्ला ने कहा कि बच्चों को संस्कारवान बनाकर सत्संग कथा के लिए प्रेरित करें। भगवत पुराण 18 पुराणों में से एक है और इसे भागवतम् भी कहते हैं। भागवत का मुख्य विषय भक्ति योग है, जिसमें श्रीकृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में चित्रित किया गया है। इस पुराण में रस भाव की भक्ति का निरूपण भी किया गया है। भगवान की विभिन्न कथाओं का सार श्रीमद्भागवत मोक्ष दायिनी है। इसके श्रवण से परीक्षित को मोक्ष की प्राप्ति हुई और कलियुग में आज भी इसका प्रत्यक्ष प्रमाण देखने को मिलते हैं। श्रीमद् भागवत कथा सुनने से प्राणी को मुक्ति प्राप्त होती हैं। पहले दिन कथाव्यास श्रीपाल दास जी ने कहा कि धर्मभीरू राजा से यदि भूलवंश गलती भी हो जाए तो भी राजा पर क्रोध नहीं करना चाहिए। ऋषि शमिक अपने पुत्र श्रृंगी ऋषि से कहते हैं बेटा राजा हमारा संरक्षक और पालनहार है तथा उसके राज्य में हम निर्भय होकर विचरण करते हैं।

वह हमारे यहां पधारे तो उनका सम्मान करना हमारा कर्तव्य बनता है। हम समाधिस्थ होने के कारण राजा को सम्मानित तो नहीं कर सके , लेकिन भूख प्यास से व्याकुलतावश उन्होंने हमारे गले में सांप भी डाल दिया तो भी तुम्हें राजा को श्राप नहीं देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सत्संग व कथा के माध्यम से मनुष्य भगवान की शरण में पहुंचता है, वरना वह इस संसार में आकर मोहमाया के चक्कर में पड़ जाता है, इसीलिए मनुष्य को समय निकालकर श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए। इस अवसर पर मुख्य रूप से सपताल शर्मा, रामकर्ण शर्मा, अमरदीप, कश्यप सभा के प्रधान रामकरण कश्यप, संजीव गर्ग आदि उपस्थित रहें।

88
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.