अपने बिल भरने के लिए लाईनों में खड़े उपभोक्ता।
Big News HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

बिजली विभाग को पानी पी-पीकर कोसते नजर आए उपभोक्ता

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – सफीदों क्षेत्र के बिजली उपभोक्ता सोमवार को बिजली विभाग को उस वक्त पानी पी-पीकर कोसते नजर आए जब वे बिजली बिल भ्भरने के लिए कई-कई घंटो लाईन में लगे रहे और काफी उपभोक्ता बिना बिल भरे ही वापिस लौटने को मजबूर हुए। बता दें कि लॉकडाउन के दौरान बिजली के बिलों का वितरण नहीं हुआ था। केवल एक बार एवरेज बिल भरवाए गए थे। पूरे लॉकडाऊन के बाद अभ्भी तीन दिन पूर्व ही विभाग द्वारा बिजली के बिलों का वितरण किया था लेकिन इन बिलों के भुगतान की तिथि सोमवार की रख दी गई। केवल तीन दिन के भीतर ही बिलों के भुगतान की तिथि आने के दौरान दो दिन शनिवार व रविवार बीच में आ गए। आखिरी दिन सोमवार को उपभोक्ताओं का तांता नगर के बिजली कार्यालय में लग गया और उपभोक्ताओं की लंबी-लंबी लाईने लग गई। स्थिति उस वक्त विकट हो गई जब ऑनलाईन बिजली बिल भरने के लिए ऑनलाईन साईट भी ठप्प हो गई। क्षेत्र के काफी तादाद में उपभोक्ता बिजली कार्यालय में जाकर बिल भरने की बजाए ऑनलाईन बिल भरते है लेकिन साईट ना चलने के कारण उन उपभोक्ताओं को भी बिजली कार्यालय में आना पड़ा। वहीं काफी उपभोक्ताओं के बिल उनके पास नहीं पहुंचे और काफी उपभोक्ता बिल बनवाने के लिए लाईन में खड़े हुए दिखाई दिए। विभाग की व्यवस्था की उस वक्त धराशायी होती दिखाई दी जब विभाग की साईट का सर्वर भी डाऊन हो गया। उपभोक्ताओं का कहना था कि विभाग के द्वारा उपभोक्ताओं के साथ सरासर ज्यादती की गई है।

अभी तीन दिन पूर्व ही उन्हे बिल बांटे गए थे और सोमवार को बिल भुगतान की तारीख रख दी गई, जबकि पहले बिल भुगतान के लिए उन्हे करीब 15 दिनों का समय मिलता था। तीन दिन के भीतर उन्होंने किसी तरह से पैसों का इंतजाम किया लेकिन ऑनलाईन साईट बंद होने के कारण उनका भुगतान नहीं हो सका और अब जब वे कार्यालय में आकर बिल भरना चाहते हैं तो यहां भी अव्यवस्था का आलम है। यहां पर बहुत लंबी लाईन लगी हुई है। बिना बिल भरे जाने वाले उपभोक्ताओं का कहना था कि उनके बिल भ्भरे नहीं जा सके है और अब उन्हे जुर्माने के रूप में भारी हर्जाना भरना पड़ेगा जिससे उनको आर्थिक नुकसान पहुंचेगा। उपभोक्ताओं का कहना था कि उनके बिल भ्भी गलत बने हुए है। कही रीडिंग गलत है तो कहीं उनकी राशी कम या ज्यादा लगाई गई है। बिल बनवाने के लिए भी उन्हे भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। उपभोक्ताओं की मांग थी कि बिल भरने की तिथि बढ़ाई जाए, अगर तिथि नहीं बढ़ती है तो जुर्माना ना लगाया जाए, सभी बिलों की रीडि़ंग ठीक की जाए, उपभोक्ताओं के बिल दुरूस्त किए जाए तथा बिल भरने की आनलाईन साईट चालू की जाए। उपभोक्ताओं की यह भी मांग थी कि कोरोनकाल में कामधंधे पूरी तरह से ठप्प रहे। जनता बेहद परेशान है तथा पेट भरने में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में सरकार को उपभोक्ताओं की तरफ ध्यान देना चाहिए और बिलों में माफी होनी चाहिए।

466
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *