कार्यक्रम में शामिल भगतों में प्रवचन रखते निगम बोध तीर्थ महाराज।
HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

मौनी अमावस्या पर गंगा, यमुना और सरस्वती नदियों में देवताओं का होता है वास : निगम बोध तीर्थ महाराज।

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – सफीदों: कस्बे की आन्नद कालोनी में वीरवार को मौनी अमावस्या अनुष्ठान संपन्न हुआ। मंदिर के संस्थापक दंडी स्वामी निगम बोध महाराज के सान्निध्य में सुबह ब्राह्मण बालकों का यज्ञोपवीत संस्कार हुआ। इसके पश्चात हवन यज्ञ, भक्ति प्रवचन और विशाल भंडारा किया गया। भक्ति प्रवचनों में निगम बोध महाराज ने कहा कि मौनी अमाव गंगा, यमुना और सरस्वती नदियों में देवताओं का वास होता है। इसलिए इस दिन प्रयागराज के त्रिवेणी संगम में स्नान का महत्व माना जाता है। इस दिन महाराज मनु का जन्म माना जाता है और पित्रों का तर्पण व मौनव्रत करने की परंपरा का उल्लेख शास्त्रों में मिलता है। यज्ञोपवीत का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि सत्य सनातन धर्म में उपनयन संस्कार जिसमें जनेऊ पहना जाता है और विद्यारंभ होता है, को यज्ञोपवीत एवं उपनयन संस्कार कहा जाता है। यह हिंदू धर्म के 16 संस्कारों में से एक प्रमुख संस्कार है। इस संस्कार में बटुक को गायत्री मंत्र की दीक्षा दी जाती है। यज्ञोपवीत बालक को तब देना चाहिए। जब उसकी बुद्धि और भावना का विकास हो। कार्यक्रम में विवेक शर्मा, विजय मंगल, साधु राम शर्मा , साधु तायल , सरवन गर्ग , डॉ सम्राट, आशुतोष भारद्वाज, सचिन भारद्वाज, विक्रम दत्त, महेश भारद्वाज, सदानंद शर्मा, भीमसेन हरिद्वार सहित संत समाज और गणमान्य नागरिक शामिल थे।  

365
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.