लगातार बारिश से जन जीवन अस्त-व्यस्त
KHAS KHABAR Shravasti Uttar Pradesh VS NEWS INDIA

लगातार बारिश से जन जीवन अस्त-व्यस्त

VS News India | Vinay Balmiki Shravasti : – श्रावस्ती में लगातार पांच दिनों से हो रही बारिश का सिलसिला अभी थमा नहीं है। कभी सुबह कभी शाम, कभी दिन तो कभी रात बारिश हो रही है। लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। बुधवार की रात भी जिले में मूसलाधार बारिश हुई। इस झमाझम बारिश का असर गुरुवार को भी दिखा। लगातार हो रही बारिश से राप्ती नदी खतरे के निशान की ओर बढ़ रही है। जिससे नदी किनारे बसे गांवों के लोग सहमे हैं।मानसूनी मौसम के पांचवे दिन भी सूर्यदेव के दर्शन नहीं हो सके। काली घटाएं और ठंडी हवा ने मौसम के मिजाज को रूमानी बना दिया। बरसात के कारण अधिकतम तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है। तेज बारिश से जगह-जगह जल भराव हो गया है। जिससे आवागमन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बारिश से राप्ती नदी के जल स्तर में भी बढ़ोतरी हो रही है। जिससे तटवर्ती गांवों के लोग बाढ़ की आशंका को लेकर सहमे हुए हैं। लगातार हो रही बारिश से अधिकाश खेत पानी से लबालब भरे हुए हैं। खेतों के उपर से पानी की धार चल रही है। सब्जी के खेतों विशेष रूप से लता वर्गीय पौधों को अधिक पानी होने से नुकसान होने की आशका बढ़ गई है। पानी की पर्याप्त निकासी नहीं होने से सब्जी उत्पादकों के माथे पर चिंता की लकीरें गहराने लगी हैं। लगातार बारिश से आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। एक ओर जहा बच्चों की पढ़ाई पर असर पड़ा है। वहीं दूसरी ओर कारोबार प्रभावित होने से व्यापारी वर्ग भी परेशान है। बारिश चलते लोग अपने अपने घरों में ही रहना पसंद कर रहे हैं। बाजारों में सन्नाटा पसरा नजर आ रहा है तथा सड़के भी वीरान नजर आ रही है। लगातार बारिश के कारण शहरी इलाकों से लेकर ग्रामीण अंचलों तक जल भराव और कीचड़ की समस्या गहरी हो गई है। शहर का शायद ही कोई ऐसा वार्ड होगा जहा पर जलजमाव की स्थिति न हो। धान की खेती करनेवाले किसानों को इस बारिश से राहत मिलती दिख रही है। मानसून के रूख को देखते हुए इस बार धान की अच्छी फसल होने के आसार नजर आ रहे हैं। हर दिन होने वाली मूसलाधार बारिश से राप्ती के जल स्तर में इजाफा तो हुआ है। लेकिन धीमी गति से बढ़ रहे जल स्तर से अभी बाढ़ जैसी स्थिति नहीं है। जिलाधिकारी ओपी आर्य ने नदी के तटवर्ती इलाके के गांवों के बाशिंदों से अपील की है कि घबराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने बताया कि संभावित बाढ़ से निपटने की सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं। डीएम ने आमजन से अपील भी की है कि अफवाहें न तो फैलाएं और न ही उन पर ध्यान दें। गुरुवार सुबह 10 बजे मल्हीपुर स्थित राप्ती बैराज पर जल स्तर 127.70 सेमी दर्ज किया गया। यहां पर खतरे का निशान 127.70 सेमी है। जबकि दोपहर 12 बजे जलस्तर खतरे के निशान से 5 सेमी ऊपर पहुंच गया था। वहीं गिलौला क्षेत्र के मध्यनगर गांव में कटान भी शुरू हो गई है। जिससे ग्रामीण खुद अपने आशियाने को उजाड़ रहे हैं।

890
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *