भाजपा नहीं जजपा दिला सकती है बरोदा हलके से जीत
Big News Gohana HARYANA VS NEWS INDIA

भाजपा नहीं जजपा दिला सकती है बरोदा हलके से जीत

VS News India | Reporter – Sanju | Gohana: – वर्ष 2019 अक्टूबर माह में हुए विधानसभा के चुनाव में जजपा ने बरोदा हलके से प्रत्याशी के रूप में भूपेद्र मलिक को मैदान में उतारा था। पहली बार चुनावी रण में आई जजपा पार्टी के प्रत्याशी भूपेंद्र मलिक ने भाजपा व कांग्रेस प्रत्याशी को नाकों चने चबाने का काम किया था। अब एक वर्ष बाद कांग्रेस से विजेता रहे प्रत्याशी स्व. श्री कृष्ण हुड्डा के निधन के बाद सीट पर उप चुनाव होने जा रहा है। इस चुनावी रण को अगर भाजपा व जजपा गठबंधन जीतना चाहती है तो उन्हें सोच समझ कर कदम उठाने होंगे। भाजपा व जजपा गठबंधन इस चुनावी रण को जीतने के लिए जजपा प्रत्याशी भूपेंद्र मलिक पर फिर से कार्ड खेल सकती है। बता दे कि भूपेंद्र मलिक कांग्रेस में पिछले कई वर्षो से संघर्ष करते आ रहे थे, लेकिन कांग्रेस ने उन्हें मौका नहीं दिया। वह बरोदा हलके के गांव भैंसवाल कलां के पैतृक निवासी हैं। गोहाना में उनका निवास स्थान है। कांग्रेस पार्टी ने जब उन्हें मौका नहीं दिया तो वह वर्ष 2019 विधानसभा चुनाव से पहले जजपा पार्टी में चले गए और जजपा पार्टी ने उन्हें विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी के रूप में उतारा। बरोदा हलके में रात-दिन एक करने वाले भूपेंद्र मलिक की मेहनत का पता चुनाव परिणाम के दिन पता चला और उन्होंने भाजपा व कांग्रेस के प्रत्याशी को नाके चनों चबा दिए और जीत से चूक गए। भाजपा की जजपा से गठबंधन करने के बाद सरकार बनी। बरोदा हलके से विजेता रहे कांग्रेस के प्रत्याशी श्री कृष्ण हुड्डा का निधन हो गया और अब दोबारा से इस हलके में उप चुनाव होने का मौका आया है। ग्राउंड रिपोर्ट की अगर बात करें तो बरोदा हलके में सर्वे करने के बाद एक सच लोगों ने सामने लाया है। लोगों का कहना है कि अगर भाजपा हलके से अपने किसी भी प्रत्याशी को मैदान में उतारती है तो उसे करारी हार का सामना करना पड़ेगा। लोगों का कहना है कि भाजपा का उम्मीदवार आने के बाद जजपा की वोट भी कांग्रेस के पाले में लोग डालने का काम करेंगी। अगर जजपा का प्रत्याशी मैदान में उतारा जाता है तो भाजपा के कार्यकर्ता उसे अपनी वोट देने का काम करेंगे। हलके के करीब 35 गांव में सर्वे करने के बाद वोटरों ने एक ही बात का विश्वास जताया और पूरे अनुमान के साथ कहां कि गठबंधन की सरकार अगर भूपेंद्र मलिक पर दोबारा से कार्ड खेलें तो इस सीट को जीत कर झोली में डाल सकते हैं। ऐसे में सूत्रों के हवाले से भी खबर आ रही है कि भूपेंद्र मलिक पर इस चुनाव में फिर से कार्ड खेला जा सकता है।

458
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *