HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

महिला अग्रवाल वैश्य समाज ने चलाया पौधारोपण अभियान

VS News India | Sanjay Kumar | Safidon :- अग्रवाल वैश्य समाज हरियाणा द्वारा पर्यावरण रक्षा हेतु पूरे प्रदेशभर में एक लाख पौधे लगाने के रखे गए लक्ष्य के तहत महिला अग्रवाल वैश्य समाज सफीदों ईकाई ने नगर के महाराजा जन्मेजय खेल स्टेडियम में जोरदार पौधारोपण अभियान चलाया। अभियान का शुभारंभ महिला अध्यक्षा सरोज गोयल ने किया। इस मुहिम में अग्रवाल वैश्य समाज के विधानसभा अध्यक्ष प्रवीन मित्तल, वरिष्ठ पत्रकार महाबीर मित्तल, युवा जिला महासचिव अमन जैन, समाजसेविका मंजू गर्ग, डिंपल सिंगला व आशा गर्ग विशेष रूप से शामिल रहीं। सभी ने मिलकर स्टेडियम परिसर में फलदार व छायादार पौधों का रोपण करने के साथ-साथ एक त्रिवेणी भी लगाई। अपने संबोधन में महिला अध्यक्ष सरोज गोयल ने बताया कि इस अभियान के तहत सफीदों क्षेत्र में 1000 पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है और इस लक्ष्य को जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मानव के जीवन को सुखी, समृद्ध व संतुलित बनाए रखने के लिए वृक्षारोपण का विशेष महत्व है।

Bajinder Saini EA3

मानव सभ्यता का अस्तित्व पेड़-पौधों से ही है। यदि हम वृक्ष-शून्य की स्थिति की कल्पना करें तो मानव दम घुटकर मर जाएगा। हाल की कोरोना महामारी के दौरान हमें आक्सीजन की भारी कमी देखने को मिली और लोग आक्सीजन प्राप्त करने के लिए मारे-मारे फिरते दिखाई दिए। अगर हमें इस भयंकर स्थिति से बचना है तो हमे वृक्षारोपण करना होगा। अग्रवाल वैश्ख्य समाज के अध्यक्ष प्रवीन मित्तल ने कहा कि यदि हम चाहते हैं कि हमारी यह धरती प्रदूषण रहित रहे तथा इस पर निवास करने वाला मानव सुखी व स्वस्थ बना रहे तो हमें पेड़-पौधों की रक्षा तथा उनके नवरोपण की ओर ध्यान देना होगा। अपने संबोधन में वरिष्ठ पत्रकार महाबीर मित्तल ने कहा कि मानव ने अपने मतलब के लिए अधांधुंध पेड़ों का कटान कर दिया। जगलों की जगह बड़ी-बड़ी इमारतें अस्तित्व में आ गई। मनुष्य यह करके एक बार तो खुश हो गया लेकिन आज उसे उसके दुष्परिणाम भुगतने पड़ रहे हैं। कोरोना महामारी के दौरान लोगों को आक्सीजन की भारी किल्लत झेलनी पड़ी। उन्होंने कहा कि अगर हमें आक्सीजन चाहिए है तो निश्चित तौर पर व्यापक पौधारोपण अभियान चलाना होगा।

Singhs Computer Education Assandh Ad
140
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.