बैरागी समाज ने बैठाई महापंचायत 
HARYANA KHAS KHABAR SAFIDON VS NEWS INDIA

छोटे-छोटे घरेलू कलह को लेकर टूटते परिवारों को बसाने के लिए बैरागी समाज ने बैठाई महापंचायत 

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – गांव बहादुरगढ़ में सरपंच सुशील सांगवान के कार्यालय में बैरागी समाज द्वारा रविवार को एक महापंचायत का आयोजन किया गया। जिसमें प्रदेश भर से बैरागी समाज के गणमान्य व सामाजिक सभाओं के साथ ग्राम पंचायतों के जनप्रतिनिधि उपस्थित रहें। जिन्होंने इस महापंचायत में अपने-अपने विचार रखे। कार्यक्रम अध्यक्षता बहादुरगढ़ सरपंच सुशील सांगवान द्वारा की गई थी। बैठक में विशेष मुद्दा आज-कल छोटे-छोटे घरेलू कलह लेकर बिछड़ रहे या टूट रहे परिवारों के बारे में विचार विमर्श करना था।  इस मौके पर सभी प्रतिनिधियों ने दहेज प्रताडऩा, दहेज की मांग व अन्य सामाजिक बुराइयों को जड़ से मिटाने का संकल्प लिया और और एक कमेटी का गठन करके समाज को नई दिशा व दशा देने का निर्णय लिया। इस मौके पर पहुंचे महावीर गुलकनीख्, शेर सिंह जींद, डागर जींद,डॉ.मामराज स्वामी रोहतक,एडवोकेट वीरेंद्र स्वामी रोहतक,सतपाल डिग, जय सिंह नंबरदार, मदन सरपंच तलोड़ा खेड़ी,गांव बहादुरगढ़ सरपंच सुशील सांगवान ने अपने विचार रखते हुए कहा कि आज-कल कुछ प्रतिनिधि लड़का-लड़की व  उनके परिवार में हुए छोटे-छोटे घरेलू कलह को लेकर दो परिवारों को तोडऩे का काम कर रहे हैं। जोकि लड़की वालों को पैसे दिलाकर उनका फैसला तक भी करा देते हैं। जिस से दो परिवार टूट जाने है। उन्होंने कहा कि यह कार्य बैरागी समाज में नहीं बल्कि हर समाज में हो रहा है।इसमें कुछ लोग गलत है, इसलिए आज की महापंचायत में फैसला लिया गया है कि समाज में फैली सामाजिक बुराईयों को दूर किया जाएगा।  जिस भी पक्ष की गलती होगी, उसको सुधारने का मौका दिया जाएगा। अगर इसके बावजूद भी समाज में उस परिवार की कोई शिकायत सुनने को मिलती है, तो समाज उस परिवार का भरपूर तरीके से बहिष्कार भी करेगा। उन्होंने कहा कि कुछ लोग अपनी लड़कियों को एक के साथ शादी करने के बाद उसके दो बच्चे होने के बावजूद भी पति को छोडऩे का फैसला ले लेते हैं। इस तरीके के फैसले लड़की के परिजनों के बिल्कुल ही गलत है। जिसमें कुछ प्रतिनिधि भी फैसला करवाने में सहमत हो जाते है। गलती कई बार लड़की की तरफ से भी मिलने है और कई बार लड़के की तरफ से मिलती है। तो ऐसे परिस्थिति में समाज के जो जनप्रतिनिधि हैं वह मुख्य भूमिका निभाते हुए पंचायत स्तर पर ही दोनों पक्षों में समझौता करवाएंगे, जोकि उन्हें बसाने का काम करेंगे ना कि उजाडऩे का। कई बार देखने को मिलता है कि एक लड़की की शादी तुड़वाकर पैसे में समझौता करवाया दिया जाता है और कुछ दिन के बाद ही समाज में ही किसी दूसरे लड़के से उस लड़की की शादी करा दी जाती है। जो कि सरासर गलत है। इसलिए बैरागी समाज ने फैसला लिया है कि एक ओर महापंचायत जल्द ही बिठाई जाऐंगी और एक बड़े स्तर की कमेटी का गठन करेंगे और सामाजिक कुरीतियों को जड़े से दूर करने का काम किया जाएगा। 

414
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *