पीटीआई शिक्षकों कि पुने भर्ती के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया
HARYANA Panipat VS NEWS INDIA

पीटीआई शिक्षकों कि पुने भर्ती के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया

VS News India | Panipat : – रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया अंबेडकर के राष्ट्रीय प्रेस प्रवक्ता सुनील गहलावत ने कहा कि उनकी पार्टी पीटीआई शिक्षको के हक में खड़ी है। उनके साथ पार्टी के वरिष्ठ नेता भी मौजूद रहे। पानीपत पहुंचने पर अजय सैनी को उनका नियुक्ति पत्र देकर पानीपत जिले का जिला अध्यक्ष एवं बलराज शर्मा को पानीपत जिले का प्रेस प्रवक्ता नियुक्त किया। दोनों ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि हमें जो जिम्मेदारी दी गई है, उसे पूर्ण निष्ठा से निभाया जाएगा। प्रत्येक गरीब शोषित और पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए कार्य करेंगे और पार्टी की विचारधारा को बढ़ाएंगे।

इस मौके पर विशेष चर्चा में सुनील गहलावत ने बताया कि पूरे विश्व में फैली महामारी कोरोना वायरस से हमारे देश के योद्धा डॉक्टर ,सफाई कर्मचारी ,पुलिस, प्रशासन ,बिजली विभाग सभी का इस लड़ाई में लड़ने में बहुत बड़ा योगदान रहा है और इनके साथ साथ हमारे देश के प्रत्येक नागरिक जो सोशल डिस्टेंस का और हमारे डॉक्टर द्वारा बताई गई सावधानी का पालन करते हैं, तो प्रत्येक नागरिक का भी योगदान रहा है।
गहलावत ने बताया कि जो सुप्रीम कोर्ट ने 1983 पीटीआई शिक्षको के खिलाफ एक आदेश देकर भर्ती को प्रक्रिया को गलत बताया है और उन्हें पुने भर्ती के आदेश दिए हैं वह गलत है अगर इसमें भर्ती में कोई कर्मचारी दोषी है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए या कुछ शिक्षक जिनके डॉक्यूमेंट सही नहीं है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए सभी के सभी कर्मचारी गलत नहीं हो सकते अगर यह भर्ती कैंसिल की जाती है तो प्रदेश के 2000 शिक्षक बेरोजगार हो जाएंगे।
गहलावत ने कहा कि हम हरियाणा कर्मचारी महासंघ के साथ हैं और सरकार से इस बारे में अपनी पार्टी की तरफ से आग्रह करते हैं कि इन कर्मचारियों के बारे में सोचा जाए। इनमें से कुछ कर्मचारी तो ऐसे हैं जिनके पूरे परिवार में सिर्फ वो ही एक व्यक्ति है जिनके ऊपर पूरे परिवार का पालन पोषण का खर्चा है। इस कारण सरकार को चाहिए कि सरकार इन कर्मचारियों के साथ खड़ी हो। इस अवसर पर पार्टी के वरिष्ठ नेता डीपी सिंह , किरण कुमार, विनोद भाटिया, एडवोकेट अमन टाक, राहुल कुमार आदि मौजूद रहे।

715
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.