Two accused arrested in the murder case
Crime HARYANA JIND VS NEWS INDIA

चाकु मारकर हत्या के मामले में दो आरोपी गिरफतार

VS News India | Jind : – दिनांक 30.12.2020 को बस अड्डा जीन्द पर आशिष पुत्र कुलदीप, अजय पुत्र महेन्द्र व बादल पुत्र बलजीत व 4/5 अन्य ने मिलकर नवीन पुत्र सुल्तान, जितेन्द्र पुत्र सुरेश व प्रवीन पुत्र बलराज वासी रूपगढ को चाकुओं से हमला करके चोटें मारी थी जिन चोटों से नवीन पुत्र इन्द्र सिहं वासी रूपगढ की मौत हो गई थी। जिस पर थाना सिविल लाईन जीन्द में आरोपी आशिष पुत्र कुलदीप, अजय पुत्र महेन्द्र व बादल पुत्र बलजीत व 4/5 अन्य के खिलाफ मुकदमा नम्बर 487 दिनांक 30.12.2020 धारा 148/149/323/324/341/302 भा.द.स. के तहत मामला दर्ज किया गया।

पुलिस अधीक्षक जीन्द डी.आई.जी. श्री ओम प्रकाश नरवाल द्वारा आरोपियों को पकडने बारे दिये गये शख्त दिशा-निर्देशों की पालना करते हुए अनुसंधान कार्य सी.आई.ए.स्टाफ जीन्द द्वारा अमल में लाया गया। जिस दौरान उ.नि. कुलदीप ने दिनांक 05.01.2021 को मुकदमा में आरोपी आशीष उर्फ शुशा पुत्र कुलदीप वासी नन्दगढ व बादल पुत्र बलजीत वासी शर्मा नगर भिवानी रोड जीन्द को गिरफतार कर लिया गया था। दिनांक 06.01.2021 को आरोपी अजय उर्फ कोफता उर्फ बांउसर पुत्र महेन्द्र वासी नन्दगढ को गिरफतार किया गया। दिनांक 09.01.2021 को आरोपियों द्वारा झगडा में प्रयोग चाकू व डण्डा बरामद करके मुकदमा में धारा 201 ईजाद की गई। दिनांक 18.01.2021 को आरोपी कमल पुत्र स्व0 गुलाब सिहं अनील उर्फ ढिल्ला पुत्र स्व0 प्रकाश वासी घिमाना को गिरफतार किया गया है। जिनकों आज अदालत में पेश करके दो दिन का पुलिस रिमाण्ड हासिल किया गया है। जिससे आरोपियान से गहनता से पूछताछ की जाएगी।

पुछताछ पर आरोपियों ने बताया कि हमारा नवीन, जितेन्द्र व प्रवीन के साथ एक लडकी से बात करने को लेकर बस अड्डा के अन्दर झगडा हुआ था उसके बाद कमल पुत्र गुलाब सिहं, अजय, बादल, आशीष व अनील बस अडडा के गेट के बाहर खडे होकर आपस में बात कर रहे थे तो आशिष ने कहा कि बस अड्डा के अन्दर मेरी बहुत बेज्जती हुई है हमें इसका बदला लेना है इतनी देर में नवीन, जितेन्द्र व प्रवीन अपने साथियों के साथ बस अड्डा के गेट पर आ गये आशिष व बादल ने नवीन को पकड लिया व अजय ने अपनी जेब से चाकू निकाल कर जान से मारने की नियत से नवीन की छाती में चाकू मारा जिससे नवीन मौके पर ही गिर गया इसके बाद अजय ने प्रवीन व जितेन्द्र को भी चाकू मारे व हम सबने मिलकर उन्हे डण्डे व लात-धूसों से चोटें मारी थी।

314
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *