गण्यमान्य लोगों की बैठक लेते हुए गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज
DHARM HARYANA KHAS KHABAR SAFIDON VS NEWS INDIA

ऐतिहासिक लालकिले पर होगा विशाल अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव: स्वामी ज्ञानानंद 

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – जीयो गीता के तत्वाधान में एक दिसंबर को दिल्ली के ऐतिहासिक लालकिला मैदान में आयोजित होने वाले विशाल अंतर्राष्ट्रीय गीता प्रेरणा उत्सव को लेकर महामंडलेश्वर गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने नगर के जेसीज भवन में सफीदों के गण्यमान्य लोगों की बैठक ली। बैठक में इस आयोजन की तैयारियों को लेकर स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने गण्यमान्य लोगों के साथ विस्तार से चर्चा की। बैठक को संबोधित करते हुए स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने कहा कि गीता को जन-जन व घर-घर की प्रेरणा बनाने, युवा पीढ़ी को पुरातन परम्पराओं से परिचित कराने, माता पिता, समाज व राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्यों के प्रति सजग करने, भारत को पुन: विश्वगुरु बनाने, संस्कारित व गीतामय भारत के निर्माण के उद्देश्य के साथ इस समारोह का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस आयोजन में देशभर से 17 से 25 आयु वर्ग के 18000 युवा, गीता प्रिय 9000 परिवार, 1800 शिक्षाविद्, चिकित्सा क्षेत्र से 1800 लोग, न्याय क्षेत्र से 1800 लोग, 1800 विप्रजन, 1800 सैनिक/अर्धसैनिक  व 1800 सरपंच भाग लेंगे। इसके साथ-साथ विश्वभर से अनेक प्रमुख, संत, राजनेता, 18 देशों के राजदूत व देश के अनेक प्रसिद्ध प्रबुद्धजन भी भाग लेंगे। सभी उपस्थित लोग वहां पर सामूहिक अष्टादश श्लोकी गीता का पाठ करेंगे और पूरे विश्व को गीतामय बनाने का संकल्प लेंगे। उन्होंने सफीदों के गण्यमान्य लोगों से आह्वान किया कि वे इस महाउत्सव में बढ़-चढ़कर सहभागिता करें। इसके साथ-साथ उन्होंने यह भी कहा कि जो इस समारोह में शिरकत करना चाहता है वह अपनी तमाम व्यक्तिगत जानकारी समय रहते नोट करवा दें ताकि सभी तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा सके। इस कार्यक्रम को सफल कार्यरूप देने के लिए योजना बनाकर दायित्वों का निर्धारण करके  उनके प्रभारी बनाएं। गीता मनीषी ने अपने आशीवर्चन में कहा कि गीता युद्ध कराने का शास्त्र नहीं अपितु शांतिपूर्वक प्रभु के चरणों में लीन जीवन जीने का साधन है। गीता से ही शांति का रास्ता निकल सकता है। विश्व में भारत ही एकमात्र देश है जहां से शांति का पैगाम निकला है और हमारे यहां कभी भी युद्ध की भाषा नहीं बोली जाती लेकिन जब-जब भारत पर युद्ध थोपा गया तो भारत ने अपने कर्म पर चलते हुए उसका भी सामना किया। इस मौके पर रास कला मंच के कलाकारों ने एक नाटक के माध्यम से श्रीकृष्ण-अर्जुन संवाद की बेहतरीन प्रस्तुति दी। इस अवसर पर मुख्य रूप से श्री कृष्ण कृपा परिवार के संरक्षक एवं वरिष्ठ भाजपा नेता एडवोकेट विजयपाल सिंह, विधायक जसबीर देशवाल, हरियाणा गौसेवा आयोग के सदस्य श्रवण कुमार गर्ग, कृष्ण कृपा परिवार के राष्ट्रीय सचिव राधेश्याम थनई, विश्व हिंदू परिषद के जिला उपाध्यक्ष अरविंद शर्मा, स. नरेंद्रपाल बंटी, एडवोकेट स. निर्मल सिंह, एडवोकेट अभिषेक गर्ग, बंटी पाहवा, राधेश्याम अरोड़ा, रविमोहन शर्मा, रवि थनई, सतीश मंगला, संजीव शर्मा, सरपंच जसमेर सैनी रजाना सहित अनेक सामाजिक व धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद थे। 
फोटो कैप्शन : गण्यमान्य लोगों की बैठक लेते हुए गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज।

509
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *