व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग व्यापारी प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए।
HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

केंद्र सरकार को जीएसटी की अधिकतम टैक्स की दरें 5 व 12 प्रतिशत दो स्लैब में करनी चाहिए- बजरंग गर्ग

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon: – सफीदों- व्यापारी प्रतिनिधियों की एक आवश्यक बैठक हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष व हरियाणा कान्फैड़ के पूर्व चेयरमैन बजरंग गर्ग की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में लगातार महंगाई व बेरोजगारी बढ़ने, व्यापार व उद्योग ठप्प होने, टैक्सों में भारी भरकम बढ़ोतरी करने पर नाराजगी जताई। व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जीएसटी के तहत आम उपयोग में आने वाली वस्तुएं पर अनाप-शनाप टैक्सों में बढ़ोतरी करके जनता की कमर तोड़ने का काम किया है। केंद्र सरकार ने जीएसटी लगाते समय व्यादा किया था कि एक देश एक टैक्स भारत देश में होगा मगर कपड़ा, चीनी, खाद्य, धूप अगरबत्ती, खेती में प्रयोग आने वाली दवाईयां आदि पर टैक्स नहीं था, उस पर 5 प्रतिशत जीएसटी लगा दिया। भारत देश आजाद होने के बाद पहली बार कपड़ा व चीनी पर टैक्स इस सरकार ने लगाया है। जिन वस्तुओं पर 5 प्रतिशत वेट कर था उन पर 18 व 28 प्रतिशत जीएसटी लगा दिया और पेट्रोल व डीजल पर जो भारी भरकम वेट कर हैं, उस पर टैक्स कम करके जीएसटी के दायरे में नहीं लाया गया जो देश व प्रदेश की जनता के साथ धोखा है! प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि आम उपयोग में आने वाली वस्तुओं पर भारी भरकम टैक्स लगाने से व पेट्रोल-डीजल पर अनाप-शनाप वेट कर बढ़ाने से देश व प्रदेश में बेतहाशा महंगाई बढ़ी है! यहां तक की पिछली सरकार में डीजल पर 9.24 प्रतिशत वेट कर हुआ करता मगर हरियाणा सरकार ने 21.40 प्रतिशत वेट कर व पेट्रोल पर 21 प्रतिशत वेट कर की जगह 30 प्रतिशत वेट कर लगाकर जनता की जेबों में डाका डालने का काम किया है जबकि सरकार को अपने व्यादे के अनुसार पेट्रोल व डीजल पर टैक्स कम करके उसे जीएसटी के दायरे में लाना चाहिए था और अपने व्यादे के अनुसार मार्केट फीस समाप्त करनी चाहिए थी! उल्टा सब्जी व फलों पर 2 प्रतिशत मार्केट फीस हरियाणा सरकार ने लगाकर किसानों के साथ ज्यादति की है जिसके कारण देश व प्रदेश में महंगाई व काफी हद तक बेरोजगारी बढ़ी है! प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने सरकार से मांग है कि सरकार को पेट्रोल व डीजल पर वेट कर कम करके जीएसटी के दायरे में लाया जाए, जीएसटी में टैक्सों में सलीकरण करके टैक्स की दरें कम की जाए। टैक्स की दरें अधिकतम 5 व 12 प्रतिशत दो स्लैब में होनी चाहिए। सब्जी व फलों पर हरियाणा सरकार ने हाल ही में जो 2 प्रतिशत मार्केट फीस लगाई है, उसे तुरंत प्रभाव से हटाया जाए। इस बैठक में व्यापार मंडल के प्रधान राज कुमार मित्तल, व्यापार मंडल युवा प्रधान हिमलेश जैन, महासचिव अमन जैन,करियाना एसोसिएशन प्रधान विजय गर्ग, प्रदेश सचिव निरंजन गोयल, सुबहू जैन, विजय जैन, अनिल जैन पिल्लूखेड़ा आदि व्यापारी प्रतिनिधियों ने अपने विचार रखे।

254
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *