राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन श्रावस्ती जिलाधिकारी को सौपा Shravasti
KHAS KHABAR Shravasti Uttar Pradesh VS NEWS INDIA

राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन श्रावस्ती जिलाधिकारी को सौपा

VS News India | Vinay Balmiki | Shravasti : – सहारनपुर में पत्रकार आशीष धीमान और उसके भाई आशुतोष उर्फ गौरी की गोली मारकर हत्या तथा पीलीभीत में पत्रकार पर ट्रैक्टर चढ़ाकर जान से मारने की कोशिश किए जाने के विरोध में बुधवार को आदर्श पत्रकार वेलफेयर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष माता प्रसाद वर्मा के नेतृत्व में राज्यपाल को सम्बोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौपा गया। जिसमें सूबे में पत्रकारों पर बढ़ रहे हमलों को देखते हुए पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किया जाए। सहारनपुर में पेशेवर अपराधियो के द्वारा मारे गए पत्रकार के परिजनों को 20 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए। हत्या आरोपियों की अविलम्ब गिरफ्तारी की जाए।
पत्रकारों पर रिपोर्ट दर्ज होने से पूर्व राजपत्रित अधिकारी से जांच कराई जाए। आपवा यूनियन को प्रांतीय स्तर पर एक कार्यालय आवंटित किया जाए आदि मांगे शामिल है। इससे पूर्व जिला मुख्यालय स्थित पत्रकार ओम मिश्रा के आवास पर संगठन के अध्यक्ष माता प्रसाद वर्मा के अध्यक्षता में एक बैठक हुई। पत्रकारों ने उपरोक्त दोनों घटनाओं का एक सुर में विरोध किया। इस मौके पर श्री वर्मा ने कहा कि पूरे प्रदेश में इस समय पत्रकारों का शोषण किया जा रहा है। कहीं पर पत्रकारों की हत्या, कहीं पर हत्या का प्रयास तो कहीं पर पत्रकारों पर फर्जी मुकदमे दर्ज करा कर उनके आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। ऐसे में अब समय आ गया है कि अपने सुरक्षा और अधिकारों के लिए आर पार की लड़ाई लड़ी जाए। इस मौके पर ओम मिश्रा ने कहा कि पत्रकारों के आवाज को दबाने का कार्य शासन एंव प्रशासन के संरक्षण में किया जा रहा है। जबकि पत्रकारों का संरक्षण सरकार और प्रशासन का नैतिक कर्तव्य है। भूपेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि यदि सरकार ने दिवंगत पत्रकार साथी को न्याय नही दिया और साथ ही पत्रकारों की सुरक्षा नही कराई गयी तो अब हम लोग आंदोलन को बाध्य होगें। मदन मोहन सिंह ने कहा कि सहारनपुर में पत्रकार की हत्या और पीलीभीत में पत्रकार की हत्या का प्रयास करने वालों के गिरफ्तारी में इतना विलम्ब किया जाना शासन एंव प्रशासन के मंसूबों को साफ दर्शा रहा है। नागेन्द्र बहादुर अस्थाना ने कहा कि पत्रकार जनता की आवाज है और इस आवाज का दबाया जाना किसी भी रूप में जनहित में नहीं है। के पी सिंह ने कहा कि पत्रकार पर हमला लोकतंत्र पर हमला है इस हमले को कतई बर्दास्त नही किया जायेगा। अम्मार रिजवी ने कहा कि पत्रकारों की सुरक्षा के लिए सरकार को पत्रकार प्रोटेक्शन कानून लागू करना चाहिए। इस मौके पर केपी सिंह, अम्मार रिजवी, नन्द कुमार गुप्ता, इशरार अहमद, पंकज वर्मा, राकेश मिश्रा, पंकज तिवारी, विनोद पाण्डेय, राहुल शुक्ला, राम किशोर गुप्ता, विनोद दूबे, प्रमोद सोनी, सुधीर सिंह, राजेश पाठक, प्रेम चन्द जायसवाल, सन्तोष मिश्रा आदि पत्रकार मौजूद रहे।

1141
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *