VS Computer Education

System Software & Application Software

कंप्यूटर पर हम अनेक तरह के कार्य कर सकते हैं . कोई भी काम कंप्यूटर से कराने के लिए हमे दो चीजों की जरूरत होती हैं –

  1. हार्डवेयर
  2. सॉफ्टवेयर

कंप्यूटर के कलपुर्जो ( Parts ) को हार्डवेयर कहा जाता हैं . हार्डवेयर को हम अपनी आखों से देख सकते हैं और हाथों से छू भी सकते है , सी.पी.यू , प्रिंटर,  हार्ड डिस्क आदि कंप्यूटर के हार्डवेयर हैं I

‘सॉफ्टवेयर’ उन प्रोग्रामों को कहा जाता हैं , जिनको हम हार्डवेयर पर चलाते हैं I  जिनके द्वारा हमारे सारे काम कराए जाते हैं I बिना सॉफ्टवेयर के कंप्यूटर से कोई भी काम करा पाना असंभव हैं I सॉफ्टवेयर भी मुख्य रूप से दो तरह के होते हैं I

  1. सिस्टम सॉफ्टवेयर ( System Software )
  2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ( Application Software )

‘सिस्टम सॉफ्टवेयर’ ऐसे प्रोग्रामो को कहा जाता हैं , जिनका काम सिस्टम अर्थात् कंप्यूटर को चलाना तथा उसे काम करने लायक बनाए रखना हैं I सिस्टम सॉफ्टवेयर ही हार्डवेयर में जान डालता हैं I बिना इसके कंप्यूटर एक बेजान मशीन बनकर रह जाएगा I ऑपरेटिंग सिस्टम (operating system) , कम्पाइलर (compilers), यूटिलिटी प्रोग्राम (utilities) आदि सिस्टम सॉफ्टवेयर के मुख्य भाग होते हैं I इसके बारे में आप आगे पढेगे I

‘एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर’ ऐसेप्रोग्रामो को कहा जाता हैं , जो हमारे असली कामों को करने के लिए लिखे जाते हैं I आवश्यकतानुसार भिन्न- भिन्न प्रकार के कार्यो के लिए भिन्न भिन्न सॉफ्टवेयर होते हैं I वेतन की गणना, लेन- देन का हिसाब , वस्तुओ का स्टाक रखने , बिक्री का हिसाब लगाने , पत्र , लेख आदि तैयार करने , चित्र बनाने आदि कामों के लिए लिखे गए प्रोग्राम ही एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर हैं I ये प्रोग्राम या तो हम खुद तैयार करते हैं I याबाज़ार से लिखे हुए खरीद लेते हैं , जो इन्ही कामों के लिए होते हैं .बाज़ार से खरीदे जाने वाले प्रोग्रामों को प्राय: पैकेज या सॉफ्टवेयर पैकेज कहा जाता हैं , जैसे एमएस – ऑफिस, टैली आदि I

114
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *