मामूली कहासुनी में दो पक्षों में खूनी संघर्ष आधा दर्जन घायल
Crime Sansani Shravasti Uttar Pradesh VS NEWS INDIA

मामूली कहासुनी में दो पक्षों में खूनी संघर्ष आधा दर्जन घायल

VS News India | Reporter – Vinay Balmiki | Shravasti : – बड़ी खबर श्रावस्ती जनपद के गिलौला थाना क्षेत्र से हैं जहाँ दो पक्षो में मामूली कहासुनी के बाद मामला गर्माता चला गया और देखते ही देखते मामूली कहासुनी खूनी संघर्ष में बदल गया। देखते ही देखते सैकड़ों लोग एक गांव से आकर गिलौला बाजार पहुंच गए जिसके बाद जमकर लाठी डंडे ईंट पत्थर चलने लगे। आक्रोशित उपद्रवियों ने नेशनल हाइवे को जाम कर दिया तथा विपक्षी पर ईंट पत्थर चलाना शुरू कर दिया। माहौल में चारो ओर दहसहत फैल गया । पूरे बाजार में अफरा तफरी मच गई। लोग अपनी जान बच्चाकर यहां वहां भागे, कुछ लोग अपने छतों पर चढ़ गए और वहां से पत्थरों की बारिश करने लगे। इस खूनी संघर्ष में आधा दर्जन लोग घायल हो गए।मामला बढ़ता देख क्षेत्रीय पुलिस ने कमान संभाला परन्तु उपद्रवियों की संख्या के आगे पुलिस भी नतमस्तक हो गयी जिसके बाद उपद्रवियों के हौसले बढ़ गए औऱ उपद्रवी पुलिस के सामने भी पथराव करने लगे।आनन फानन में जिला हेड क्वाटर सूचना भेजी गई तत्काल पूरे जनपद की पुलिस व पीएसी ने कमान संभाल लिया। मौके पर स्वयं एडिशनल पहुंच गए। उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। प्राप्त जानकारी के अनुशार गिलौला के गांव सुविखा निवासी कृष्ण कुमार व गिलौला बाजार निवासी पवन गुप्ता दोनों छात्र है । नेहरू स्मारक इंटर कालेज में परीक्षा के दौरान दोनों में गाली गलौज हुआ था। घर जा कर मामला जब दोनों ने अपने परिजनों को बताई तो सुविखा गांव के कई लोग पूछताछ करने गिलौला बाजार निवासी पवन गुप्ता के आवास पर आगये, और कहासुनी में ही मामला बिगड़ गया। सुविखा गांव के आक्रोशित उपद्रवियों ने नेशनल हाइवे 730 को जाम कर दिया और प्रदर्शन करने लगे। एसपी व सीओ के समझाने बुझाने पर मामला शांत हुआ। एडिशनल बीसी दुबे ने बताया कि इस पत्थर बाजी के कांड में जो भी शामिल था किसी को बख्शा नही जाएगा पुलिस सब से सख्ती से निपटेगी ।गिलौला पुलिस ने छात्रों के हंगामे को गंभीरता से नही लिया जिसके कारण दंगे जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई । बोर्ड परीक्षाओं के चलते जनपद में धारा 144 लागू है जिसके चलते पुलिस को सख्त हिदायत है कि 4 या 5 से अधिक लोग एक साथ न चले लेकिन यहाँ दस बीस की संख्या में एक गांव से कुछ लोग आए औऱ इतना बड़ा हंगामा हो गया। जबकि जिस जगह मामला हुआ वहां से थाना मात्र 500 मीटर की दूरी पर है । पुलिस की बेबसी का आलम यह था कि बल प्रयोग करने के बाजए पुलिस भैया दादा कह कर समझाती रह गई उधर उपद्रवियों के हौसले बढ़ गए जिसके बाद पुलिस के सामने ही उपद्रवी पथराव करने लगे। इतने बड़े रिहायसी इलाके में इतने उपद्रवियों का इकट्ठा हो जाना पुलिस की सतर्कता व कार्यशैली पर भी सवालिया निशान खड़ा करता है। हजारों परिवार जो डर से घर दुकान बंद कर के अपने परिवार के साथ छतों पर चढ़ गए शायद उनको एहसास हो गया था पुलिस निर्बल और कमजोर हो चुकी है जान माल की सुरक्षा का जिम्मा अब खुद ही उठाना पड़ेगा।

546
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *