गांव खेड़ाखेमावती में किच्चड़ युक्त गड्ढो में गिरी हुई गुड की रेहड़ी। 
Big News HARYANA SAFIDON VS NEWS INDIA

खेड़ाखेमावती बस अड्डे व खानसर चौंक के हालत बद से बदतर

VS News India | Reporter – Sanju | Safidon : – उपमंडल का गांव खेड़ाखेमावती विकास की बाट जो रहा है। सरकार विकास करवाने का दम भरती नही थकती, लेकिन धरातल की सच्चाई बहुत कुछ बयान करके आइना दिखा रही है। सफीदों-असंध रोड खानसर चौंक व गांव खेड़ाख्खेमावती के अड्डे पर आपको सरकार के सभी दावे फेल नजर दिखाई देंगे। जहांआज से नहीं बल्कि पिछलेे कई सालों से किच्चडय़ुक्त गड्ढे बने हुए है। यहां की हालत दिन प्रतिदिन खराब होती जा रही है। आपने अक्सर देखा होगा कही सड़क पर गड्ढे होते है, लेकिन यहां तो गड्ढों में ही सड़क है। ऊपर से पानी भरा हुआ है। क्योंकि पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा करीब 12 करोड़ रुपए की खानसर व गांव खेड़ाखेमावती के पास नाले के निर्माण अधर में लटका रखा है। यहां से हर रोज न जाने कितने वाहन गुजरते है। किसी के आन-जाने में परेशान होता है, तो कोई बाइक के साथ बीच में ही गिर जाता है। ऐसे में गांव खेड़ाखेमावती के ग्रामीणों के साथ वाहन चालकों में भी रोष है। खानसर चौंक के दुकानदारों के साथ कांग्रेस नेता नरेश जागड़ा ने भ्भी शुक्रवार को रोष प्रकट किया है और चेतावनी दी है कि अगर दो-तीन दिनों में सरकार व प्रशासन खानसर चौंक के गड्ढों को खत्म नहीं किया तो, वह दुकानदारों के साथ मिलकर सड़क में जिरी लगाने का काम करेंगे। रोष प्रकट करने वालों ने दुकानदार रमेश, साहिल, राजींद्र, सोनू आदि ने कहा कि कोई दिन ऐसा नहीं जाता जिस दिन कोई चोटिल न हो। यहां से वाहन रेंग रेंगकर चलते है। अनजान को पता नही कहा खड्डा है, ऐसे में गाड़ी गड्ढों में ही धस जाती है और चालकों का गाड़ी का कोई न कोई पुर्जा टूट से नुकसान होता है। 

सफीदों के खानसर चौक पर टूटी हुई सड़क पर गंदे पानी से गुजरते वाहन। 

खेड़ाखेमातवी में गुड़ से भरी रेहड़ी भी धसी:-
यही हाल खेड़ाखेमावती बस अड्डे का है अभी दो दिन पहले वह एक रेहड़ी वाला अपने गुड़ को बेचने निकला था, ताकि अपने परिवार का पेट भर सके। लेकिन उसको क्या पता था उसका सारा गुड गोबर हो जाऐगा। उसकी रेहड़ी किच्चडय़ुक्त गड्ढों के कारण वहीं बिखर गई। उस गरीब आदमी को इन गड्ढों के कारण हजारों का नुकसान हुआ और रेहड़ी भी खराब हो गई। ऐसे में उसकी जान भी जा सकती थी, उसकी जिम्मेदारी कोन होता?  गांव खेड़ाखेमावती के गंदे पानी की निकासी के लिए नाले का निर्माण पिछले तीन महीने से रुका पड़ा है और अब मानसून शुरू हो गई है। ऐसे में बारिश 
का पानी अधिक मात्रा में खड़ा होने से दुकान भी गिरने का खतरा बना हुआ है। नालेे की सुध न तो ग्राम पंचायत ले रही और ना ही प्रशासन। सब आंखें बंद करके बैठे है। पास की बस्ती वाले तो नारकीय जीवन जीने का मजबूर है, लेकिन यहां से गुजरने वाले राहगीर भी अछूते नही है ।  अगर किसी दिन कोई बड़ा हादसा हो गया, उसका जिम्मेदार कौन होगा। ये सोचने वाली बात है ।

सफीदो के खानसर चौक पर रोष प्रकट करते हुए कांग्रेस नेता नरेश जागड़ा

इस मामले में जब गांव खेड़ाखेमावती के सरपंच सुशील से बात की गई तो उन्होंने कहा कि लोकडाउन के चले पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा नालेे के निर्माण को बंद किया हुआ था। उन्होंने गंदे पानी की निकासी के लिए मोटर लगवाई हुई है। बारिश होने से पानी अधिक मात्र में खड़ा हो गया था। विभाग के अधिकारियोंं से बोलकर नाले का निर्माण कार्य शुरू करवा दिया गया है। जल्द ही ग्रामीणों को गंदे पानी से निजात मिलेेगी। 

559
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *